s

'स्रोत भाषा' एवं 'लक्ष्य भाषा' क्या होती है? इनकी आवश्यकता एवं प्रयोग || Source' and 'Target language' Source language' and 'Target language'.

   226033   Copy    Share

'स्रोत-भाषा' और 'लक्ष्य-भाषा' क्या होती है, इस बारे में जानने से पूर्व शब्द 'स्रोत' एवं 'लक्ष्य' का क्या अर्थ है यह जानना आवश्यक है। यदि हम इन शब्दों का अर्थ जान लें तो 'स्रोत-भाषा' और 'लक्ष्य-भाषा' को समझने में काफी आसानी होगी।

'स्रोत' का अर्थ- 'स्रोत' शब्द का आशय है वह साधन या स्थल जहाँ से हमें कोई सामग्री या जानकारी प्राप्त हो। अब हम 'स्रोत-भाषा' की बात करें तो आशय होगा - ऐसी भाषा जिसमें जानकारी उपलब्ध हो।

'लक्ष्य' का अर्थ - लक्ष्य का अर्थ होता है 'उद्देश्य' अर्थात वह बात, जानकारी या वस्तु जिसे प्राप्त करना उद्देश्य हो। या हम यह भी कह सकते हैं कि वह कार्य या बात जिसकी सिद्धि हमारे लिए अभीष्ट हो और उसकी पूर्ति के लिए उस पर दृष्टि या ध्यान केंद्रित किया जाए। इस तरह 'लक्ष्य-भाषा' का आशय होगा ऐसी भाषा जिसमें जानकारी प्राप्त करना उद्देश्य हो। 'स्रोत' और 'लक्ष्य' शब्दों का अर्थ जानने के पश्चात जानते हैं- स्रोत भाषा क्या है?

हिन्दी भाषा के इतिहास से संबंधित इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।।
1. भाषा का आदि इतिहास - भाषा उत्पत्ति एवं इसका आरंभिक स्वरूप
2. भाषा शब्द की उत्पत्ति, भाषा के रूप - मौखिक, लिखित एवं सांकेतिक
3. भाषा के विभिन्न रूप - बोली, भाषा, विभाषा, उप-भाषा
4. मानक भाषा क्या है? मानक भाषा के तत्व, शैलियाँ एवं विशेषताएँ
5. देवनागरी लिपि एवं इसका नामकरण, भारतीय लिपियाँ- सिन्धु घाटी लिपि, ब्राह्मी लिपि, खरोष्ठी लिपि
6. हिन्दू (हिन्दु) शब्द का अर्थ एवं हिन्दी शब्द की उत्पत्ति

स्रोत भाषा

'स्रोत-भाषा' वह भाषा होती है जिसमें कोई जानकारी या ज्ञान मौलिक रूप में वर्णित हो या उस भाषा में जानकारी उपलब्ध हो। जब कभी भाषा में वर्णित बात को समझना कठिन हो या अन्य भाषाओं के माध्यम से जन-जन तक उस ज्ञान या जानकारी को पहुँचाना उद्देश्य हो, तब उस आवश्यकता की पूर्ति के लिए जानकारी को दूसरी भाषा में अनुवाद करने की आवश्यकता होती है, तब हम मूल रूप से जिस भाषा में जानकारी उपलब्ध है उस भाषा को 'स्रोत-भाषा' कहते हैं।
इस तरह सीधा-सीधा कहा जाए तो किसी जानकारी को सरलता से समझने के लिए अन्य सरल भाषा में अनुवाद करना पड़े अर्थात कही गई बात को दूसरी भाषा में अनुदित करना हो तो जिस भाषा से जानकारियाँ या ज्ञान अनुदित होता है, उस भाषा को 'स्रोत-भाषा' कहते हैं।
उदाहरण- महाकवि कालिदास द्वारा लिखित नाटक और रचनाएँ संस्कृत भाषा में उपलब्ध हैं। अतः कालिदास जी की रचनाओं के लिए 'स्रोत-भाषा' संस्कृत होगी।

ध्वनि एवं वर्णमाला से संबंधित इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।।
1. ध्वनि का अर्थ, परिभाषा, लक्षण, महत्व, ध्वनि शिक्षण के उद्देश्य ,भाषायी ध्वनियाँ
2. वाणी - यन्त्र (मुख के अवयव) के प्रकार- ध्वनि यन्त्र (वाक्-यन्त्र) के मुख में स्थान
3. हिन्दी भाषा में स्वर और व्यन्जन || स्वर एवं व्यन्जनों के प्रकार, इनकी संख्या एवं इनमें अन्तर
4. स्वरों के वर्गीकरण के छः आधार
5. व्यन्जनों के प्रकार - प्रयत्न, स्थान, स्वरतन्त्रिय, प्राणत्व के आधार पर
6. 'अ' से 'औ' तक हिन्दी स्वरों की विशेषताएँ एवं मुख में उच्चारण स्थिति
7. प्रमुख 22 ध्वनि यन्त्र- स्वर तन्त्रियों के मुख्य कार्य

लक्ष्य भाषा

जैसा कि ऊपर 'स्रोत-भाषा' के संदर्भ में जानकारी दी गई है कि किसी भाषा में दिए गए ज्ञान को सरलता से समझने के लिए या उस जानकारी को जन-जन तक पहुँचाने के लिए अन्य सरल भाषा में अनुवाद किया जाता है। ज्ञान या जानकारी का जिस भाषा में अनुवाद होता है उस भाषा को 'लक्ष्य-भाषा' कहा जाता है। उदाहरण - कालिदास द्वारा रचित ग्रन्थ या रचनाओं को समझने या जन-जन तक पहुँचाने के लिए हिन्दी, अंग्रेजी या अन्य भाषाओं में जब अनुवाद किया गया है तब जिन भाषाओं में अनुवाद हुआ है वे सभी 'लक्ष्य-भाषाएँ' होंगी।

हिन्दी व्याकरण के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।।
1. लिपियों की जानकारी
2. शब्द क्या है
3. लोकोक्तियाँ और मुहावरे
4. रस के प्रकार और इसके अंग
5. छंद के प्रकार– मात्रिक छंद, वर्णिक छंद
6. विराम चिह्न और उनके उपयोग
7. अलंकार और इसके प्रकार

स्रोत एवं लक्ष्य भाषा की आवश्यकता एवं प्रयोग

स्रोत भाषा एवं लक्ष्य भाषा की आवश्यकता अधिकतर अनुवाद के संदर्भ में किया जाता है। जब किसी एक भाषा का अन्य भाषा में अपना कथन प्रयुक्त करना हो अर्थात एक भाषा के कथन को किसी दूसरी भाषा के कथन में बदलना हो तो यह अनुवाद कहलाता है। अतः अनुवाद से तात्पर्य है, एक भाषा में कही गई बात को दूसरी भाषा में इस तरह कहा जाए जिससे कि पहली भाषा का भाव पूर्णतः स्पष्ट हो सके।
उदाहरणार्थ - यदि अंग्रेजी भाषा में कही गई किसी बात को हिन्दी में इस तरह प्रस्तुत किया जाए जिससे कि दोनों का अर्थ एक ही हो अर्थात दोनों का भाव एवं उद्देश्य एक ही हो। जैसे- Kalidas is a great poet.
को हिंदी में अनुवाद होगा
"कालीदास एक महान कवि हैं"
इस तरह कहा जाएगा।
अनुवाद के संदर्भ में कम से कम दो भाषाओं का होना अनिवार्य होता है। इसमें एक भाषा 'स्रोत भाषा' एवं दूसरी भाषा 'लक्ष्य भाषा' होती है।स्रोत भाषा को मूल भाषा एवं लक्ष्य भाषा को अन्य भाषा भी कहते हैं।

हिन्दी व्याकरण के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।।
1. शब्द क्या है- तत्सम एवं तद्भव शब्द
2. देशज, विदेशी एवं संकर शब्द
3. रूढ़, योगरूढ़ एवं यौगिकशब्द
4. लाक्षणिक एवं व्यंग्यार्थक शब्द
5. एकार्थक शब्द किसे कहते हैं ? इनकी सूची
6. अनेकार्थी शब्द क्या होते हैं उनकी सूची
7. अनेक शब्दों के लिए एक शब्द (समग्र शब्द) क्या है उदाहरण
8. पर्यायवाची शब्द सूक्ष्म अन्तर एवं सूची
9. शब्द– तत्सम, तद्भव, देशज, विदेशी, रुढ़, यौगिक, योगरूढ़, अनेकार्थी, शब्द समूह के लिए एक शब्द
10. हिन्दी शब्द- पूर्ण पुनरुक्त शब्द, अपूर्ण पुनरुक्त शब्द, प्रतिध्वन्यात्मक शब्द, भिन्नार्थक शब्द
11. द्विरुक्ति शब्द क्या हैं? द्विरुक्ति शब्दों के प्रकार

I hope the above information will be useful and important.
(आशा है, उपरोक्त जानकारी उपयोगी एवं महत्वपूर्ण होगी।)
Thank you.
R F Temre
edudurga.com

other resources Click for related information

Watch video for related information
(संबंधित जानकारी के लिए नीचे दिये गए विडियो को देखें।)
Comments

POST YOUR COMMENT

Recent Posts

उचित मूल्य पर पुस्तक-कापियाँ, यूनिफॉर्म, एवं अन्य सामग्रियों हेतु सत्र 2024-25 में पुस्तक मेले का आयोजन हो सकता है।

1st अप्रैल 2024 को विद्यालयों में की जाने वाली गतिविधियाँ | New session school activities.

Solved Model Question Paper | ब्लूप्रिंट आधारित अभ्यास मॉडल प्रश्न पत्र कक्षा 8 विषय- सामाजिक विज्ञान (Social Science) | वार्षिक परीक्षा 2024 की तैयारी

Subcribe